Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / फतेहपुर / फतेहपर ज़िला महिला अस्पताल की सी०एम०एस डॉ०रेखा रानी ने एसी मिसाल कायम की जो काबिले तारीफ है

फतेहपर ज़िला महिला अस्पताल की सी०एम०एस डॉ०रेखा रानी ने एसी मिसाल कायम की जो काबिले तारीफ है


फतेहपर ज़िला महिला अस्पताल की सी०एम०एस डॉ०रेखा रानी ने एसी मिसाल कायम की जो काबिले तारीफ है

मामला फतेहपर ज़िला हॉस्पिटल का है जिला महिला अस्पताल की सीएमएस डॉ रेखा रानी ने यह सिद्ध कर दिखाया अधिकारी होते हुए भी जहां प्रशासनिक कार्यों के बोझ के बाद भी जिला महिला अस्पताल में इमरजेंसी में मरीजों को निराश होकर नहीं जाना पड़ता सूत्रों की माने तो जिला महिला अस्पताल के ज्यादातर डॉक्टर कोविड-19 जैसी बीमारी से ग्रसित हैं वही जिला महिला अस्पताल की सीएमएस इमरजेंसी सेवाएं खुद दे रही है और स्टाफ नर्स एक मानवता की बहुत बड़ी मिसाल है सूत्रों की माने तो देश में जहां कोविड-19 जैसी बीमारी से फतेहपुर जिले से रोज काफी केस पॉजिटिव आ रहे हैं और कोविड-19 बुरी तरह से फैला हुआ है इन सब को देखते हुए एक स्वास्थ्य विभाग की अधिकारी जिन पर प्रशासनिक दबाव है इसके बावजूद भी वह दिन रात इमरजेंसी सेवा खुद दे रही है और उनके साथ दो चिकित्सक वहीं जिला महिला अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद एक स्वास्थ्य विभाग की अधिकारी जो निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को भी सारी मेंटेन करना फिर हर मरीज को इमरजेंसी में देखना यह एक मानवता डॉ रेखा रानी ने यह सिद्ध कर दिया की अधिकारी हो या जो भी हो अगर उसके अंदर इंसानियत है तू वह वाकई में धरती का भगवान कहे जाने में किसी भी तरीके का संकोच नहीं करना चाहिए पत्रकारिता जगत में जहां हम लोग अपना कार्य बखूबी करते हैं वही यह भी देखने में आया की मानवता की मिसाल अगर लेना हो तो जिला महिला अस्पताल की सीएमएस डॉ रेखा रानी उनके स्टाफ से ले। जहां पर जिला महिला अस्पताल में डाक्टरों की भारी कमी होते हुए भी किसी मरीज को निराश होकर नहीं जाना पड़ रहा आखिर 24: घंटे इमरजेंसी करने वाली डॉक्टर रेखा रानी तथा उनका स्टाफ जो वाकई में बधाई के पात्र हैं सूत्रों की माने तो इससे पहले कई बार ऐसा और हो चुका है की रेखा रानी कभी कदार इमरजेंसी करती पाई गई विभाग के अधिकारी के अंदर इंसानियत की मिसाल पेश है वही छोटे कर्मचारी अपने अधिकारी को देखकर अपने परिवारजनों को ना देखते हुए अपने अधिकारी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर मरीजों को पूरी सेवाओं का लाभ दे रहे हैं दिन में दो चिकित्सक और भी हैं लेकिन जितनी मेहनत अस्पताल की सीएमएस ने कर दिखाया जो एक इंसानियत का प्रतीक है पिछले वर्ष covid-19 से भी रेखा रानी ग्रसित हुई थी लेकिन अपने सरकारी निवास पर रह कर खुद को कोरनटाईन किया उस वक्त भी उन्होंने मुख्यालय नहीं छोड़ा वही आज अपने परिवार की परवाह न करते हुए खुद एक अधिकारी होते हुए इमरजेंसी करना सारी सरकारी सुविधाएं देना। वही कुछ संगठनों और समाज सेवियों का कहना है कि ज़िले और प्रदेश के अधिकारी गण को एसी डॉ को सम्मानित करना चाहिए ताकि यह एक नज़ीर बन जाए और देश के डॉक्टरों और देश वासियों के लिए एक मिसाल बन जाय।

फतेहपुर सवांददाता राजेश पासवान की रिपोर्ट

About Janadhikar Media

Janadhikar Media

Check Also

भारतीय किसान यूनियन लोकतांत्रिक संगठन की चेतावनी——

🔊 पोस्ट को सुनें भारतीय किसान यूनियन लोकतांत्रिक संगठन की चेतावनी—— आक्सीजन उपलब्धता सुनिश्चित नहीं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Naat Sharif Download Website Designer Freelance WordPress Developer All Lucknow Services Portal