Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / फतेहपुर / यह कैसी है सरकार सुरक्षित नहीं है पत्रकार

यह कैसी है सरकार सुरक्षित नहीं है पत्रकार


यह कैसी है सरकार सुरक्षित नहीं है पत्रकार

समाज के चौथे स्तंभ के साथ कोटेदार द्वारा हमला

यह मामला फतेहपुर के  बकेवर थाना अंतर्गत का है  अंतर्राष्ट्रीय जनाधिकार मीडिया सवांददाता प्रियंक

 उमराव बकेवर सवांददाता है तथा एक सम्मानित व्यक्ति है पत्रकारिता के साथ साथ एक मेडिकल स्टोर भी चलाते है दिनांक 16/04/2021 को प्रियंक उमराव पंचायत चुनाव की कवरेज कर के घर वापसी कर रहे थे कि तभी गांव के पास राजकुमार वर्मा पुत्र इंद्रपाल वर्मा जो कि कोटेदार है वो अपने तीन साथियों के साथ घात लगाए बैठा था जैसे ही पियंक उमराव की गाड़ी वहां पहुची सभी ने गाड़ी को घेर लिया और लात घुसो से मारने लगे तभी एक नए कट्टा निकाल लिया और धमकी दिया कि पारिवारिक नाते से समझा रहा हूँ अभी भी वक़्त है समझ जाओ नही तो तुझे गोली मार दूंगा। कोटेदार एवं उसके सभी साथी नशे की हालत में थे और सभी गालियां देने लगे और कहने लगे प्रधानी मैं जिसको चाहूंगा वही जीतेगा मेरा कोई कुछ भी नही कर पायेगा तुम पत्रकारिता करते हो कुछ भी नही कर पाओगे मेरा। तभी प्रियंक उमराव ने कहा कि भईया आपको गलत फहमी हो गई मैं पत्रकार हूँ मैं कोई राजनीतिक आदमी नही हूँ मुझे राजनीति से कोई मतलब नही जो सच होगा वही मैं लिखूंगा इतना सुनते ही कोटेदार के सभी साथी आग बबूला हो गए और नीचे गिरा कर खूब मारा और कहने लगे कि मैं यहाँ की स्थानीय पुलिस को मैं पैसा देता हूँ। जो मैं कहूंगा वही थाने के लोग करेंगे। इन्ही सब मे प्रियंक उमराव को काफी चोटें भी आई। जब प्रियंक उमराव थाने में अपनी गुहार लगाने पहुचे तो वहां से भी उनको कोई न्याय नही मिला सभी उस कोटेदार का गुणगान गाते मिले ना ही कोई जांच की गई बस एप्लीकेशन को ले लिया गया ना ही उनको किसी डॉक्टरी के लिए भेजा गया आज इतने दिन हो रहे प्रियंक उमराव न्याय की गुहार हर चौखट पर लगा रहे।

आज दिनांक 21/04/2021 को फतेहपर जाकर sp से भी इंसाफ की गुहार लगाई  प्रियंक उमराव यह सोच कर डर जाते की कोटेदार भविष्य में फिर हमला ना करे कही जान से ना मार दे। यहां तक प्रियंक उमराव ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर भी खबर लगा दी और काफी अधिकारियों को रजिस्ट्री के माध्यम से भी अवगत कराया फतेहपर में एसे दबंगो का बोल बाला है। मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही पत्रकारों पर हमले हो रहे मगर कोई न्यायिक जांच नही हो रही बदमाशो दबंगो के हौसले दिन प्रति दिन बढ़ते जा रहे क्या पत्रकारों को इंसाफ मिलेगा यह भी एक प्रश्न बना हुआ है।

फतेहपर सवांददाता मोहम्मद आरिफ की खास रिपोर्ट

About Janadhikar Media

Janadhikar Media

Check Also

भारतीय किसान यूनियन लोकतांत्रिक संगठन की चेतावनी——

🔊 पोस्ट को सुनें भारतीय किसान यूनियन लोकतांत्रिक संगठन की चेतावनी—— आक्सीजन उपलब्धता सुनिश्चित नहीं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Naat Sharif Download Website Designer Freelance WordPress Developer All Lucknow Services Portal