Breaking News
Home / देश / हिंदी सिनेमा की मशहूर एक्ट्रेस शशिकला ने कहा दुनिया को अलविदा

हिंदी सिनेमा की मशहूर एक्ट्रेस शशिकला ने कहा दुनिया को अलविदा


-उन्होंने 70 के दशक में बॉलीवुड की हीरोइन और विलेन दोनों का किरदार निभाया था–

-शशिकला का 88 वर्ष की आयु में हुआ निधन, साल 2007 में उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा था–

लखनऊ, 04 अप्रैल 2021, बॉलीवुड की सीनियर एक्ट्रेस शशिकला का रविवार को निधन हो गया, वो 88 साल की थीं, शशिकला का निधन 4 अप्रैल को मुंबई के कोलाबा में दोपहर 12 बजे हुआ, उन्होंने 70 के दशक में बॉलीवुड की हीरोइन और विलेन दोनों का किरदार निभाया था, बॉलीवुड में 100 से ज्यादा फिल्मों में काम करने वाली शशिकला का पूरा नाम शशिकला जावलकर था, उनका जन्म 4 अगस्त को सोलापुर में हुआ था, उन्होंने अपनी जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव देखे थे, हालांकि उनका बचपन बहुत ऐशो-आराम से गुजरा था, शशिकला के छह बहन-भाई थे और उनके पिता बहुत बड़े बिजनेसमैन थे।

शशिकला को बचपन से नाचने-गाने का शौक था, उनके पिता के बिजनेस के ठप्प होने के बाद वो काम की तलाश में मुंबई आ गई थीं, वहां उनकी मुलाक़ात नूर जहां से हुई थी, शशिकला की पहली फिल्म जीनत थी, जिसे नूर जहां के पति शौकत रिजवी ने बनाया था, उन्होंने तीन बत्ती चार रास्ता, हमजोली, सरगम, चोरी चोरी, नीलकमल, अनुपमा में भी काम किया था, फिल्मों के साथ-साथ शशिकला ने टीवी में भी काम किया था, वो मशहूर सीरियल सोन परी में फ्रूटी की दादी के रोल में नजर आई थीं, साल 2007 में उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा था।

शशिकला एक मराठी परिवार से हैं, वो सोलापुर से थी और काफी पसंद की जाती थी, उनकी भूमिकाएं लोगों को काफी अच्छी लगती थी, उन्होंने कम उम्र में ही काम करना शुरू कर दिया था ताकि वो अपने परिवार का भार उठा सके, शशिकला ने कई पुरस्कार जीते थे, इनमें फिल्म आरती के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस के लिए फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया था, वहीं फिल्म गुमराह के लिए भी उन्हें यहीं पुरस्कार प्राप्त हुआ था, इसके अलावा उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था वहीं 2009 में उन्हें वी शांताराम अवार्ड भी दिया गया था, शशिकला को सपोर्टिंग रोल के लिए जाना जाता था, उन्होंने विमल राय जैसे निर्देशक के साथ भी काम किया है, वहीं वो शम्मी कपूर और साधना के साथ भी नजर आ चुकी है, उन्होंने कई टीवी सीरियल्स में भी काम किया है, इनमें जीना इसी का नाम है, अपनापन, दिल दे कर देखो, सोनपरी और परदेसी बाबू जैसे नाम शामिल हैंl

रिपोर्ट @ आफाक अहमद मंसूरी

About Janadhikar Media

Janadhikar Media

Check Also

रेगुलर डीएलएड के समान मान्यता देने एवं टेट आदि परीक्षा हेतु मान्य किये जाने सम्बन्धी NCTE का आदेश जारी

🔊 पोस्ट को सुनें NIOS द्वारा संचालित डीएलएड (ओपन एवं दूरस्थ शिक्षा) को रेगुलर डीएलएड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Naat Sharif Download Website Designer Freelance WordPress Developer All Lucknow Services Portal