Breaking News
Home / देश / महाराष्ट्र / बॉस रिसर्च सेंटर चिचपल्ली में भीषण आग

बॉस रिसर्च सेंटर चिचपल्ली में भीषण आग


बॉस रिसर्च सेंटर चिचपल्ली में भीषण आग

देखते ही देखते आग ने पूरे केंद्र को घेरा

पालक मंत्री ने दिए जांच के आदेश

सीआईडी से जांच कराएं

अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा

दि०-26-02-2021

चंद्रपुर शहर से 25 किलोमीटर दूर स्थित चिचपल्ली में बांस संशोधन तथा प्रशिक्षण केंद्र की इमारत बनी हुई है । पिछले 2 वर्ष से इन इमारतों का निर्माण कार्य जारी है। इमारतों का निर्माण लगभग पूर्ण हो चुका था। गुरुवार को दोपहर में पूर्णता बांस से बनी इन इमारतों में से एक इमारत से अचानक आग की लपटें बाहर निकलने लगी । जिससे परिसर में हड़कंप मच गया ।पहले आग की लपटे केंद्र के ऊपरी हिस्से पर दिखाई दी।आग देखते ही मार्ग से गुजर रहे लोगों का हुजूम स्तब्ध होकर देखते रह गया। बांस से बनी इमारत होने से देखते ही देखते कुछ मिनटों में पूरे केंद्र को आग ने घेर लिया था।आग की लपटें और आसमान में काला धुंआ कई मील दूर से नजर आने लगा था।आग की तीव्रता इतनी अधिक थी कि आग ने पूरे केंद्र को अपनी चपेट में ले लिया। उस समय केंद्र में मौजूद अधिकारी एवं कर्मियों ने तुरंत बाहर निकल कर अपनी जान बचाई । केंद्र के धराशायी होने से पूर्व ही सभी बाहर निकल चुके थे।
आग बुझाने का कोई उपाय नहीं
बाँस संशोधन और प्रशिक्षण केंद्र पूरी तरह से बांस से बनाया जा रहा था। इसके बावजूद यहां आग से बचाव के लिए किसी भी तरह की कोई उपाय नहीं किए गए थे। इसी का परिणाम रहा कि आग ने पूरे केंद्र को चंद मिनटों में घेर लिया।

दमकल की 5 गाड़ियां पहुंची

कर्मचारियों को आग पर काबू पाने के लिए कोई उपाय नहीं सूझ रहा था पुलिस प्रशासन को इसकी सूचना दी गई महानगरपालिका की 2 ,बलारपुर नगर पालिका की1, मूल नगर पालिका की 1, पोंभुणा पालिका की 1 दमकल गाड़ी मौके पर पहुंची ।आग पर काबू पाने के लिए कई घंटे लग गए। आग इतनी भीषण थी कि लपटों ने न केवल केंद्र बल्कि इसकी चारदीवारी के बाहरी क्षेत्र को घेर लिया था। गनीमत रही कि आग जंगल तक नहीं पहुंची।
पालक मंत्री ने दिए जांच के आदेश
चिचपल्ली स्थित बांस प्रशिक्षण केंद्र की निर्माणाधीन इमारत में लगी आग की घटना को लेकर पालक मंत्री विजय वडेट्टीवार ने जांच के आदेश दिए हैं ।इमारत बांस से बनी थी।आग कैसे लगी और सुरक्षा के लिए क्या उपाय योजना की गई थी । इसकी जांच के आदेश दिए गए हैं। घटनास्थल पर जिलाधिकारी अजय गुल्हाने, सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग के अधीक्षक अभियंता सुभाष साखरवाडे ,वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने पहुंचकर जायजा लिया।
सीआईडी से जांच कराएं

पूर्व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि एशिया की सबसे बड़ी बाँस संशोधन एवं प्रशिक्षण केंद्र की कुछ इमारतों को आग लगने की घटना काफी दुर्भाग्यपूर्ण है। इस पूरे मामले की सीआईडी जांच कराई जानी चाहिए। बांस संशोधन एवं प्रशिक्षण केंद्र बांस नीति को प्रोत्साहन देने की दृष्टि से शुरू किया गया महत्वपूर्ण प्रकल्प है। रोजगार निमित्त की दृष्टि से महत्वपूर्ण इस प्रकल्प को लगी आग कृत्रिम होने का आरोप उन्होंने लगाया।
अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा
वंचित बहुजन आघाडी के राजू झोड़े ने कहा कि आग की घटना के लिए बांस प्रशिक्षण एवं संशोधन केंद्र के संबंधित अधिकारी जिम्मेदार हैं। यह उनकी लापरवाही और लचर नियोजन का परिणाम है दोषी अधिकारियों को तुरंत पद से निलंबित कर दिया जाना चाहिए। बांस से बने इस केंद्र में अग्निशमन यंत्रणा की कोई सुविधा नहीं होना दुर्भाग्यपूर्ण है।

@ किशोरीकांत चौधरी
चंद्रपुर , महाराष्ट्र

About Janadhikar Media

Janadhikar Media

Check Also

1500 की रिश्वत लेते मंडल अधिकारी गिरफ्तार

🔊 पोस्ट को सुनें 1500 की रिश्वत लेते मंडल अधिकारी गिरफ्तार भद्रावती :-जमीन फेरफार के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Naat Sharif Download Website Designer Freelance WordPress Developer All Lucknow Services Portal