Breaking News
Home / देश / महाराष्ट्र / नाबालिगों सहित सैकड़ो नशे के आदी हो रहे हैं

नाबालिगों सहित सैकड़ो नशे के आदी हो रहे हैं


नाबालिगों सहित सैकड़ो नशे के आदी हो रहे हैं

माजरी :(चंद्रपुर) अनेक नाबालिक युवक युवतीया नशीले पदार्थों के शिकार हो रहे हैं और समय-समय पर पुलिस द्वारा इन पर नकेल कसने के बावजूद जिले के सक्रिय तस्करों से माजरी क्षेत्र में नशा करने वालों को ये नशीले पदार्थ आसानी से मिल पा रहे हैं।भांग की लत को लेकर विभिन्न अपराधों के साथ आत्महत्या के प्रयास का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। कोई काम – धंधा नहीं है, कॉलेज बंद होने से युवा वर्ग इसकी ओर रुख कर रहे हैं।
तेलंगाना और अन्य राज्यों से बड़ी मात्रा में भांग की तस्करी चंद्रपुर, बल्लारशाह, भद्रावती, वरोरा माजरी और कई अन्य स्थानों पर की जा रही है।भांग को विभिन्न आकारों में पैक कर युवा वर्ग मे बेचा जा है जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ताओं तक पहुंचाया जाता है।
यहां तक ​​​​कि किशोरों सहित नाबालिगों को भी विभिन्न प्रकार के नशे के संपर्क में लाया गया है। आयोडेक्स के साथ रोटी खाने का तरीका अब पुराना हो चुका है। खांसी की दवा बड़ी मात्रा में ली जाती है। मैंड्रेक्स की गोलियां ली जाती हैं। जूतों को गोंद करने के लिए इस्तेमाल होने वाले सॉलिड, थिनर, व्हाइटनर आदि नशे के लिए इस्तेमाल किए जा रहे हैं। पिसी हुई चीनी को सिल्वर प्लेटेड कागज के एक टुकड़े पर रखकर और माचिस की तीली से जलाकर कम बजट वाले लोग नए आइडिया लेकर आए हैं।
नशा करने वालों में 17-18 से 40-50 वर्ष की आयु के लोग प्रचलित हैं। नशा पांच से आठ घंटे तक रह सकता है। यह नशा युवा लोगों में मानसिक असंतुलन, अनिद्रा, बेहोशी, दिल का दौरा और अन्य बीमारियों को जन्म दे सकता है।
बच्चों को अब अपने माता-पिता के लिए प्यार नहीं है। मां-बाप की न माने अहंकार, जिद ने युवाओं, खासकर 14-16 साल के बच्चों को दीवाना बना दिया है। बड़ी संख्या में युवा इसके आदी होते जा रहे हैं, इससे गंभीर स्थिति पैदा हो गई है।
ये सभी स्थितिया पूरे देश में साथ साथ पूरे समाज के हित में चिंताजनक है इससे पहले की युवा खुद को ऐसी स्थिति में पूरी तरह आ जाये । समाज को जागना चाहिए और इस समस्या पर अंकुश लगाने का प्रयास करना चाहिए इसके लिए प्रशासन शासन हर स्तर पर प्रयास किए जा रहे है । सामाजिक संगठनो नशा मुक्ति केंद्र की भी भागीदारी महत्वपूर्ण होगी।
यह नशा मस्तिष्क को प्रभावित करता है और नियंत्रण खो देता है भांग की लत मस्तिष्क में रासायनिक डोपामाईन किया स्तर को काफी बढ़ा देती है और मस्तिष्क नियंत्रण खो देता है संबंधित व्यक्ति की आक्रामकता तेजी से बढ़ जाती है और वह बिना किसी संतुलन के व्यवहार करना शुरू कर देता है विशेषज्ञों ने कहा है कि वह इस दवा के प्रभाव में विभिन्न के अपराध भी कर सकता है ।
*वर्जन* नशे के आदि युवाओं को बाहर निकालना सभी की जिम्मेदारी है और इसके लिए पुलिस आपकी पूरी क्षमता से सहयोग करेगी माजरी इलाके में कुछ महीने पहले अवैध गांजा बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी हालांकि परिवार में सभी को युवा लड़के और लड़कियों पर नजर रखनी चाहिए और अगर उन्हें ड्रग्स तस्करों के नाम पता है तो उन्हें पुलिस को बताना चाहिए उनका नाम और मोबाइल नंबर गोपनीय रखा जाएगा। जानकारी मिलने पर माजरी क्षेत्र के नशा तस्करों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

विनीत घागे – थानेदार पुलिस स्टेशन माजरी

@ किशोरीकांत चौधरी
व्यूरो चीफ महाराष्ट्र

About Janadhikar Media

Janadhikar Media

Check Also

बिजली, पानी व वेकोलि द्वारा निर्माण समस्या को लेकर ग्रामीणों का जन आंदोलन

🔊 पोस्ट को सुनें बिजली, पानी व वेकोलि द्वारा निर्माण समस्या को लेकर ग्रामीणों का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Naat Sharif Download Website Designer Freelance WordPress Developer All Lucknow Services Portal